Pages

Tuesday, 27 January 2015

बराक ओबामा का 2015 का भारत दौरा 2010 से कैसे बेहतर है

Obama Visit to India 2010 & 2015
कमलाशंकर विश्वकर्मा, +Kamlashankar Vishvakarma नई दिल्ली, (28 जनवरी, 2015)।
अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा का यह दौरा कई मायनों में ऐतिहासिक और 2010 के मुकाबले काफी ऊर्जा व उमंग से भरा हुआ रहा, ओबामा के भारत आते ही एयरपोर्ट पर सबका अभिवादन करने का अंदाज़, प्रधानमंत्री जी के साथ गले मिलना, जनता को सम्बोधित करना यह सब कुछ मोदी जी की सरकार का ही असर लगता है। जिस प्रकार भारत वासियों को मोदी सरकार से काफी उम्मीदें है, उसी प्रकार सभी विदेशी भी नयी सरकार से अच्छे सम्बन्ध बनाकर इस अवसर को भुनाने का प्रयास कर रहे है। गणतंत्र दिवस की परेड के दौरान भी मोदी जी ने श्री ओबामा को एक गाइड की तरह पुरे भारत का चरित्र चित्रण कर दिया। यहां तक की खुद चाय बनाकर पिलाई और "अतिथि देवो भवः" की परंपरा को निभाते हुए प्रोटोकॉल को भी नगण्य कर विदेशी मेहमान की खूब आवभगत की। श्री ओबामा ने सिरी फोर्ट ऑडिटोरियम में हुए अपने भाषण में जनसमूह को सम्बोधित करते हुए स्वामी विवेकानंद से प्रेरणा लेते हुए कहा "ब्रदर्स एंड सिस्टर्स ऑफ़ इंडिया" और नमस्ते से अपने भाषण की शुरुआत और जय हिन्द से समाप्त किया। (भाषण के वीडिओ  का लिंक goo.gl/dXkuxG) भारत से विदाई लेते समय भी ओबामा और मिशेल दोनों ने एक साथ झुककर सबको नमस्ते किया। इस दौरे से लगता है की आने वाले समय में अमेरिका और भारत के लिए काफी अच्छा होगा। ओबामा के 2010 और 2015 के दौरे की कुछ तुलनात्मक तस्वीरें देखने के लिए क्लिक करें goo.gl/x8VWWr
(Source: Obama Speech Video is taken from NDTV website)

Thursday, 22 January 2015

सिर्फ एक दिन में हिंदी पढ़ना लिखना सीखें How to Read and Write in Hindi with Barahkhadi

How to read Hindi ?, How to write Hindi ?, Learn Hindi ?, Hindi Alphabets ?, Hindi Pronunciation ?, Hindi Blogging ?, Hindi Translation ?

प्रिय मित्रों,
आपके इन्ही सवालों का जवाब मेरे इस लेख में है। बारहखड़ी की सहायता से आप हिंदी को आसानी से पढ़ लिख सकते है। वैसे यह बाज़ार में पुस्तक के रूप में आसानी से मिल जाती है लेकिन इंटरनेट या ब्लॉग पर मुझे कही मिली नहीं इसलिए मैं इसे आप सबकी सहूलियत के लिए पोस्ट के रूप में डाल रहा हूँ। ताकि हिंदी में चैटिंग करते समय या कोई लेख लिखते समय आप गलतियां ना करें। और अगर मोबाईल में आप हिंदी में टाइप करना चाहते है तो आप गूगल हिंदी इनपुट एंड्रोइड एप्पलीकेशन इस लिंक goo.gl/Rzh20c से डॉउनलोड कर सकते है। और अधिक जानकारी के लिए आप मुझसे यहां goo.gl/ABjAj0 संपर्क कर सकते है।
क-   का-     कि-     की-    कु-      कू-      के-    कै-      को-     कौ-      कं-     कः
Ka-    Kaa-       Ki-        Kee-      Ku-       Koo-        Ke-     Kai-         Ko-        Kau-      Kam-       Kah.
ख-    खा-    खि-      खी-     खु-     खू-    खे-    खै-      खो-     खौ-      खं-     खः
Kha-  Khaa-     Khi-       Khee-     Khu-    Khoo-   Khe-    Khai-      Kho-       Khau-     Kham-    Khah.
ग-     गा-     गि-      गी-     गु-    गू-      गे-     गै-      गो-     गौ-      गं-     गः
Ga-     Gaa-        Gi-       Gee-       Gu-     Goo-      Ge-     Gai-       Go-       Gau-       Gam-     Gah.
घ-     घा-      घि-     घी-     घु-       घू-     घे-     घै-     घो-     घौ-      घं-      घः 
Gha-   Ghaa-     Ghi-     Ghee-     Ghu-     Ghoo-   Ghe-   Ghai-     Gho-     Ghau-    Gham-    Ghah.
च-     चा-     चि-      ची-     चु-      चू-     चे-      चै-     चो-     चौ-      चं-      चः
Cha-    Chaa-    Chi-      Chee-      Chu-     Choo-   Che-     Chai-     Cho-    Chau-     Cham-     Chah.
छ-      छा-    छि-     छी-    छु-     छू-      छे-     छै-     छो-     छौ-     छं-      छः 
Chha-  Chhaa-  Chhi-   Chhee-  Chhu-   Chhhoo-  Chhe-  Chhai-   Chho-   Chhau-  Chham-   Chhah.
ज-     जा-      जि-    जी-    जु-     जू-    जे-      जै-    जो-      जौ-      जं-       जः
Ja-       Jaa-         Ji-        Jee-       Ju-       Joo-     Je-        Jai-       Jo-        Jau-       Jam-          Jah.
झ-     झा-    झि-     झी-     झु-    झू-    झे-     झै-     झो-     झौ-     झं-       झः 
Jha-     Jhaa-     Jhi-       Jhee-     Jhu-    Jhoo-    Jhe-      Jhai-      Jho-      Jhau-    Jham-       Jhah.
ट-      टा-      टि-     टी-      टु-      टू-     टे-      टै-      टो-     टौ-      टं-       टः
Ta-      Taa-        Ti-        Tee-        Tu-      Too-     Te-       Tai-        To-       Tau-       Tam-       Tah.
ठ-     ठा-      ठि-     ठी-      ठु-      ठू-     ठे-     ठै-      ठो-      ठौ-      ठं-      ठः
Tha-   Thaa-      Thi-      Thee-     Thu-      Thoo-   The-    Thai-      Tho-       Thau-    Tham-     Thah.
ड-      डा-     डि-     डी-      डु-      डू-     डे-      डै-      डो-      डौ-      डं-       डः
Da-       Daa-      Di-       Dee-      Du-      Doo-     De-       Dai-        Do-        Dau-       Dam-      Dah.
ढ-      ढा-     ढि-     ढी-     ढु-       ढू-     ढे-      ढै-     ढो-      ढौ-      ढं-        ढः
Dha-    Dhaa-    Dhi-     Dhee-    Dhu-      Dhoo   Dhe-    Dhai-     Dho-      Dhau-     Dham-      Dhah.
ण-     णा-    णि-    णी-     णु-     णू-    णे-     णै-     णो-     णौ-     णं-       णः
Na-       Naa-      Ni-       Nee-       Nu-       Noo-    Ne-      Nai-        No-        Nau-      Nam-      Nah.
त-     ता-     ति-     ती-      तु-     तू-    ते-     तै-      तो-      तौ-      तं-       तः
Ta-      Taa-        Ti-        Tee-       Tu-      Too-    Te-       Tai-        To-        Tau-       Tam-      Tah.
थ-     था-     थि-     थी-     थु-      थू-    थे-     थै-       थो-    थौ-      थं-      थः 
Tha-    Thaa-      Thi-      Thee-    Thu-     Thoo-    The-    Thai-       Tho-     Thau-    Tham-    Thah.
द-      दा-     दि-      दी-      दु      दू-      दे-      दै-      दो-      दौ-      दं-      दः
Da-      Daa-      Di-        Dee-        Du-      Doo-     De-       Dai-      Do-       Dau-       Dam-      Dah.
ध-     धा-     धि-     धी-     धु-     धू-     धे-     धै-     धो-    धौ-      धं-      धः 
Dha-    Dhaa-    Dhi-      Dhee-     Dhu-   Dhoo-    Dhe-    Dhai-      Dho-    Dhau-    Dham-    Dhah.
न-     ना-     नि-     नी-      नु-    नू-     ने-     नै-     नो-     नौ-       नं-    नः
Na-      Naa-       Ni-        Nee-       Nu-     Noo-     Ne-      Nai-      No-        Nau-       Nam-    Nah.
प-      पा-     पि-     पी-      पु-     पू-    पे-      पै-     पो-      पौ-       पं-     पः
Pa-       Paa-       Pi-       Pee-       Pu-     Poo-    Pe-       Pai-       Po-      Pau-       Pam-     Pah.
फ-    फा-     फि-     फी-    फु-     फू-    फे-     फै-     फो-     फौ-     फं-     फः  
Pha-   Phaa-     Phi-      Phee-    Phu-   Phoo-   Phe-    Phai-     Pho-     Phau-   Pham-     Phah.
ब-     बा-     बि-     बी       बु-      बू-    बे-      बै-     बो-     बौ-      बं-       बः
Ba-      Baa-      Bi-       Bee-       Bu-       Boo-    Be-      Bai-       Bo-     Bau-      Bam-       Bah.
भ-    भा-    भि-     भी-     भु-     भू-    भे-     भै-     भो-    भौ-      भं-      भः 
Bha-  Bhaa-    Bhi-     Bhee-    Bhu-    Bhoo-    Bhe-    Bhai-      Bho-    Bhau-    Bham-     Bhah.
म-    मा-    मि-     मी-      मु-    मू-    मे-      मै-     मो-    मौ-      मं-      मः
Ma-    Maa-      Mi-       Mee-       Mu-     Moo-    Me-       Mai-       Mo-     Mau-      Mam-       Mah.
य-     या-    यि-    यी-      यु-     यू-    ये-     यै-     यो-     यौ-      यं-      यः
Ya-     Yaa-      Yi-      Yee-       Yu-       Yoo-     Ye-      Yai-       Yo-      Yau-       Yam-      Yah.
र-      रा-     रि-     री-      रु-     रू-     रे-      रै-     रो-      रौ-       रं-       रः
Ra-     Raa-       Ri-      Ree-       Ru-     Roo-     Re-      Rai-      Ro-       Rau-       Ram-     Rah.
ल-     ला-    लि-    ली-      लु-    लू-    ले-    लै-     लो-     लौ-      लं-      लः
La-       Laa-      Li-        Lee-       Lu-     Loo-    Le-      Lai-       Lo-       Lau-      Lam-      Lah.
व-      वा-     वि-    वी-      वु-     वू-    वे-     वै-     वो-      वौ-      वं-      वः
Va-       Vaa-      Vi-      Vee-       Vu-     Voo-    Ve-     Vai-      Vo-       Vau-      Vam-      Vah.
-      शा-   शि-   शी-    शु-   शू-     शे-   शै-    शो-    शौ-    शं-     शः
sha-      shaa-    shi-     shee-     shu-    shoo-    she-    shai-     sho-     shau-    sham-     shah.
-      षा-    षि षी-     षु-     षू-    षे-    षै-    षो-     षौ-     षं-     षः
sha-     shaa-    shi-     shee-     shu-      shoo-   she-    shai-     sho-     shau-    sham-     shah.
-     सा-   सि-    सी-    सु-    सू-    से-    सै-     सो-    सौ-    सं-    सः
sa-      saa-       si-        see-      su-       soo-      se-       sai-        so-       sau-     sam-      sah.
-     हा-     हि-    ही-     हु-     हू-     हे-     है-     हो-    हौ-     हं-     हः
ha-     haa-        hi-      hee-      hu-      hoo-       he-       hai-        ho-      hau-      ham-     hah.
क्ष-    क्षा-    क्षि-    क्षी-     क्षु-    क्षू-     क्षे-    क्षै-     क्षो-     क्षौ-     क्षं-     क्षः
Ksha- Kshaa-  Kshi-   Kshee-  Kshu-  Kshoo-  Kshe-  Kshai-   Ksho-   Kshau-  Ksham-  Kshah.
त्र      त्रा    त्रि    त्री      त्रु      त्रू     त्रे       त्रै      त्रो      त्रौ        त्रं       त्रः 
Tra-    Tra-       Tri-     Tree-      Tru-     Troo-    Tre-     Traai-     Tro-     Traau-      Tram-      Trah.
ज्ञ-    ज्ञा-    ज्ञि-   ज्ञी-    ज्ञु-    ज्ञू-    ज्ञे-     ज्ञै-     ज्ञो-     ज्ञौ-      ज्ञं-      ज्ञः
Gna-  Gnaa-    Gni-   Gnee-   Gnu-   Gnoo-   Gne-     Gnai-    Gno-     Gnau-     Gnam-    Gnah.
अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो कृपया अधिक से अधिक शेयर करें,
ताकि जरूरतमंद लोगों तक पहुँच सके।
आपका : कमलाशंकर विश्वकर्मा facebook.com/kamlashanker

Tuesday, 13 January 2015

लोहड़ी की लोक कथा

कमलाशंकर विश्वकर्मा, नई दिल्ली (13 जनवरी, 2015)  लोहड़ी का त्योहार मकर संक्रान्ति से 1 दिन पहले 13 जनवरी को मनाया जाता है। लोहड़ी से सम्बन्धित कई तरह की लोक कथाएँ हैं। ये लोक कथाएँ धार्मिक न होकर सांस्कृतिक ज़्यादा हैं। लोहड़ी मौसम या फ़सलों के कटान या सूर्य के उत्तरायण पक्ष की ओर जाने से जुड़ी हैं।
लोहड़ी का सम्बन्ध फ़सल कटाई से भी जोड़ा गया है। गन्ने की कटाई का समय लोहड़ी या उसके आस पास ही होता है याने जनवरी – मार्च। सामान्यतः गन्ने की बुवाई भी जनवरी – मार्च में की जाती है। इन दिनों गाजर, मूली, मेथी, पालक की फ़सल भी कट कर बाज़ार में आने लगती हैं। इस सीज़न में गुड़, मूँगफली, गज्जक और रेवड़ी का भी आनन्द लिया जा सकता है।
लोहड़ी से अगले दिन याने माघ महीने से किसानों का नया साल या नया वित्तीय वर्ष भी चालू होता है। खेतों का लगान और बटाई के सौदे भी इसी दिन किये जाते हैं। लोहड़ी मनाने में इस कारण का भी योगदान है।
मकर संक्रान्ति याने १४ जनवरी से सूर्य देवता भी उत्तरायण की ओर प्रस्थान कर जाते हैं और लोहड़ी की आंच में मौसम बदलने का संदेश दे जाते हैं। ठिठुरती सर्दी से छुटकारा पाने का कारण भी इस में जोड़ा गया है।
लोहड़ी मनाएँ और गाना बजाना न हो ऐसा तो हो नहीं सकता। और लोहड़ी के समय गाए जाने वाले लोकगीतों में दुल्ला भट्टी का ज़िक्र आता है क्यूँकि दुल्ला भट्टी इस मौक़े का ख़ास किरदार या हीरो है। वैसे तो उसका काम राबिनहुड जैसा था। सरकारी ख़ज़ाने लूटना, ग़रीबों की मदद करना और उनकी लड़कियों की शादियाँ करवाना। जैसा की नीचे लिखे गीत में कहा गया है, दुल्ला भट्टी ने सुन्दरी और मुंदरी नामक लड़कियों की शादी कराई और एक सेर शक्कर का दहेज दिया।
सुन्दर मुंदरिये – होय !, तेरा कौन विचारा – होय !
दुल्ला भट्टी वाला – होय !, दुल्ले धी व्याई – होय !
सेर शक्कर पाई – होय !, कुड़ी दा लाल पटाका – होय !
कुड़ी दा सल्लू पाटा – होय !, सल्लू कौन समेटे – होय !
चाचे चूरी कुट्टी – होय !, ओ जिमीदारां लुट्टी – होय !
जिमीदार सुधाए – होय !, गिन गिन भोले आए – होय !
इक भोला रै गया – होय !, सिपाई फड़ के लै गया – होय !
सिपाई ने मारी इट्ट – होय !, भांवे रो ते भांवे पिट्ट – होय !
सानू दे दे लोड़ी, ते जीवे तेरी जोड़ी ।
दुल्ला भट्टी ( दुल्ला भाटी ) का पूरा नाम राय अब्दुल्ला खान भट्टी राजपूत था जिसने मुग़ल बादशाह अकबर के विरुद्ध विद्रोह का झंडा बुलंद किया। माता का नाम लद्धी, पिता का नाम राय फ़रीद खान भट्टी और दादा का नाम राय संदल खान भट्टी था। भट्टी मुस्लिम राजपूत संदलबार / संदलवाल इलाक़े के रहने वाले थे जिसे आजकल पिंडी भट्टीयां (पाकिस्तान) भी कहा जाता है। इन भाटी राजपूतों का सम्बन्ध जैसलमेर के राजपूत वंश से रहा है। जैसलमेर के राजा रावल गज सिंह भट्टी ( 1820 – 1846 ) को अंग्रेज़ों द्वारा काफ़ी ज़मीन झंग और चिनीयोट ( पाकिस्तान ) में दी गई थी और ये राजपूत वहीं जा बसे। यहाँ के भाटी राजपूत गाँवों के कुछ नाम हैं – पिंडी भट्टियान, जलालपुर भट्टियान, भाका भट्टियान, भट्टियान छिब्बन और भट्टियान गूजर खान।
अपने दादा परदादा की तरह दुल्ला भट्टी भी अपने इलाक़े का लगान और टैक्स अकबर के दरबार में नहीं पहुँचाता था। इस के अलावा भट्टी राजपूत अकबरी ख़ज़ाने वग़ैरह पर भी छापेमारी करते थे। इस इलाक़े से मुग़ल लड़कियों को अगवा करते थे और बाहर देशों में बेच आते थे। अकसर दुल्ला भट्टी छापेमारी कर के इन्हें छुड़वा लेता और वहीं शादियाँ भी करवा देता। इसके अलावा शादी में दान दहेज भी दे दिया करता। इन कारणों से नाराज़ अकबर की फ़ौज ने कई नाकाम कोशिशों के बाद दुल्ला भट्टी को पकड़ लिया और सरे आम लाहौर में फाँसी लगा दी। तभी से दुल्ला भट्टी को हर लोहड़ी में याद किया जाता है। (साभार ) goo.gl/ABjAj0